Total Pageviews

मल्हारआश्रम में एडमिशन के लिए मुझे फोन करें तब आये मजा .....शिक्षामंत्री



इंदौर 07 मार्च ..... ये स्कूल 1922 से बना है लाखों छात्र यहा से शिक्षा लेकर कई अच्छी जगहों पर पहुच गए है। लोग मुझे प्राइवेट स्कूलों में एडमिशन के लिए फोन लगाते है लेकिन मेरी इक्छा है कि लोग मुझे मल्हारआश्रम में एडमिशन करवाने के लिए फोन करें।
    ये कहना है प्रदेश  की स्कूली शिक्षामंत्री अर्चना चिटनिस का वे आज मल्हारआश्रम (स्कूल) छात्रावास के जीर्णोंद्घार के शुभारंभ  के अवसर पर बोल रही थी । उन्होनें कहा कि इन्दौर में कहीं भी मल्हार आश्रम  जैसा स्कूल  नहीं होगा।  36 एकड विशाल क्षेत्र में बने इस स्कूल से लगभग 1 से १-5 लाख तक के विद्यार्थी शिक्षित होकर कई उच्च स्थानों पर गयें हैं। स्कूल विभाग का प्रभार मिलने के बाद सबसे पहले मेरे द्वारा मल्हार आश्रम स्कूल पर ध्यान दिया एवं जहां एक समय यहां 70 छात्र थें उसी स्थान पर आज प्रयासों से 300 से अधिक छात्र यहां पर हैं।सभी शासकीय स्कूल शिक्षा विभाग के अंतर्गत होते हैं किंतु मल्हार आश्रम स्कूल को सीधे कलेक्टर के अधीन रखा गया हैं। इस भवन को हेरीटेज   बिल्डिंग के रुप में उपयोग करना चाहियें ।
उन्होनें आगे कहा कि लोग उन्हें प्रायवेट स्कूल में एडमिशन के लिये  फोन लगाते है हमारा यह प्रयास है कि एक दिन ऐसा हो कि लोग मल्हार आश्रम स्कूल में एडमिशन हेतु मुझे फोन करें ।
 महापौर श्री मोघे ने कहा कि यह ऐतिहासिक विद्यालय हैं इन्दौर डेली कालेज एवं मल्हार आश्रम स्कूल इस प्रकार से बनाये गये थे कि यहां पर विद्यार्थियों को सभी प्रकार की सुविधाऐं मिलें। इस भवन को मूल स्वरुप मिले इसके लिये नगर निगम शिक्षा विभाग जिला प्रशासन द्वारा चिंतित थें । एक होस्टल का जीर्णोंद्घार जिला प्रशासन, दुसरे का जनभागीदारी से एवं तीसरे व चौथे का कार्य निगम शीघ्र करेंगा । इसके जीणोद्वार हेतु 99 लाख की योजना बनाई गई हैं। इस भवन के कार्य के साथ-साथ खेल विभाग द्वारा बेड मिन्टनमैदान एवं बाउन्ड्री वाल का कार्य भी किया जावेंगा इस हेतु प्रक्रिया चल रही है एक माह मे कार्य शुरु हो जावेंगा । इनके जीणोद्वार हेतु निगम द्वारा लगभग 99 लाख की कार्य योजना बनाई गई हैं जिसमें जनभागीदारी से कपडा मार्केट व्यापारिक संघ, व वैष्णव ट्रस्ट द्वारा 15 लाख एवं मतलानी ग्रुप द्वारा भी सहयोग किया जाएगा।   
 गौरतलब है कि शासकीय मल्हार आश्रम विद्यालय एवं छात्रावास की स्थापना होल्कर राजवंश के संस्थापक सुबेदार मल्हारराव होल्कर की स्मृति में वर्ष 1922 में सैनिक शिक्षा प्रचार प्रसार हेतु की गई थी । जो 90 वर्ष पुराना होकर जीर्ण-क्षीर्ण हो गया हैं।
 अपने उत्पाद सेवा को प्रचारित करने का बेहतर स्थान लोकल इंदौर संपर्क करे
 localindore@gmail.com   या काल करे 91-8989600286

No comments:

Post a Comment